NEP 2020: कक्षा 6-8 के छात्रों के लिए 10-दिवसीय 'बैगलेस डेज' की सिफारिश, इंटर्नशिप का मिलेगा मौका

इन सिफारिशों के आधार पर, PSSCIVE ने बैगलेस डेज़ को लागू करने के लिए व्यापक दिशा-निर्देश विकसित किए हैं। इन्हें स्कूलों में छात्रों के लिए सीखने को अधिक आनंददायक, तनाव-मुक्त बनाने के लिए डिजाइन किया गया है।

छात्र स्थानीय कौशल विशेषज्ञों के साथ पारंपरिक स्कूल सेटिंग से बाहर की गतिविधियों में शामिल होंगे। (इमेज-आधिकारिक)छात्र स्थानीय कौशल विशेषज्ञों के साथ पारंपरिक स्कूल सेटिंग से बाहर की गतिविधियों में शामिल होंगे। (इमेज-आधिकारिक)

Santosh Kumar | July 9, 2024 | 05:32 PM IST

नई दिल्ली: स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव संजय कुमार ने 28 जून, 2024 को स्कूली छात्रों के लिए 'बैगलेस डेज' के दिशा-निर्देशों की समीक्षा की। ये दिशा-निर्देश शिक्षा मंत्रालय के अंतर्गत एनसीईआरटी की इकाई PSSCIVE द्वारा विकसित किए गए हैं। बैठक में एनसीईआरटी, सीबीएसई, एनवीएस और केवीएस के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। बैठक में विभिन्न सुझावों पर चर्चा की गई, जिसमें छात्रों को स्थानीय पारिस्थितिकी के बारे में जागरूक करना, उन्हें पानी की शुद्धता की जांच करना सिखाना आदि शामिल है।

इस समीक्षा के आधार पर, PSSCIVE अपने दिशा-निर्देशों को और बेहतर बनाएगा और अंतिम रूप देगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 के पैराग्राफ 4.26 के अनुसार, यह सिफारिश की गई है कि कक्षा 6-8 के सभी छात्र 10-दिवसीय बैगलेस अवधि में भाग लें।

इस दौरान, छात्र स्थानीय कौशल विशेषज्ञों के साथ इंटर्नशिप करेंगे और पारंपरिक स्कूल सेटिंग से बाहर की गतिविधियों में शामिल होंगे। इस पहल का उद्देश्य छात्रों को उस बड़े पारिस्थितिकी तंत्र के लिए प्रशंसा विकसित करने में मदद करना है जिसमें उनका स्कूल अंतर्निहित है।

Also readस्कूल शिक्षा विभाग की बैठक में बोले धर्मेंद्र प्रधान, शिक्षा विकसित भारत के लक्ष्य का एक प्रमुख स्तंभ है

इन सिफारिशों के आधार पर, PSSCIVE ने बैगलेस डेज को लागू करने के लिए व्यापक दिशा-निर्देश विकसित किए हैं। ये दिशा-निर्देश स्कूलों में छात्रों के लिए सीखने को अधिक आनंदमय, अनुभवात्मक और तनाव-मुक्त बनाने के लिए बनाए गए हैं।

इसके तहत पूरे साल बैगलेस डेज को प्रोत्साहित किया जाएगा, जिसमें कला, क्विज़, खेल और कौशल आधारित शिक्षा जैसी विभिन्न गतिविधियाँ शामिल होंगी। छात्रों को समय-समय पर कक्षा के बाहर की गतिविधियों से परिचित कराया जाएगा, जिसमें ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और पर्यटन स्थलों का दौरा, स्थानीय कलाकारों और शिल्पकारों के साथ बातचीत और स्थानीय कौशल आवश्यकताओं के अनुसार उनके गाँव, तहसील, जिले या राज्य में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों का दौरा शामिल है।

Download Our App

Start you preparation journey for JEE / NEET for free today with our APP

  • Students300M+Students
  • College36,000+Colleges
  • Exams550+Exams
  • Ebooks1500+Ebooks
  • Certification16000+Certifications