NEET UG 2024: नीट यूजी अभ्यर्थियों ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन; कहा- ‘छात्र परीक्षा चाहते हैं, स्कैम नहीं’

नीट छात्र अनुज कुमार ने कहा कि पेपर लीक के कारण पूरे भारत में रैंक और नंबर बढ़े हैं और अब ग्रेस मार्क्स की बात हो रही है।

एनईईटी 2024 अभ्यर्थियों ने पेपर लीक की जांच की मांग को लेकर किया प्रदर्शन। (स्त्रोत-आधिकारिक 'एक्स' NSUI)एनईईटी 2024 अभ्यर्थियों ने पेपर लीक की जांच की मांग को लेकर किया प्रदर्शन। (स्त्रोत-आधिकारिक 'एक्स' NSUI)

Abhay Pratap Singh | June 14, 2024 | 08:16 AM IST

नई दिल्ली: नीट यूजी अभ्यर्थियों ने कथित नीट पेपर लीक मामले में गुरुवार को जंतर-मंतर (दिल्ली) में प्रदर्शन करते हुए दोबारा परीक्षा कराने और जांच की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्रों ने “24 लाख छात्र परीक्षा चाहते हैं, स्कैम नहीं” का नारा भी लगाया।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की ओर से राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा-स्नातक 2024 (नीट यूजी 2024) परीक्षा परिणाम 4 जून को जारी किया गया था। जिसके बाद से ही छात्र लगातार एनटीए पर अनियमितता का आरोप लगाते हुए नीट परीक्षा दोबारा कराने की मांग कर रहे हैं।

न्यूज एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, नीट यूजी अभ्यर्थी कशिश ने कहा, “मुझे 670 अंक मिले हैं और मैं अपनी सीट चाहती हूं। हम सभी पेपर लीक मामले की निष्पक्ष जांच चाहते हैं, क्योंकि हमने परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत की है।”

ग्रेस मार्क्स पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बारे में बोलते हुए कशिश ने कहा कि, “ग्रेस मार्क्स पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मुझे कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन कोई भी पेपर लीक मुद्दे पर ध्यान नहीं दे रहा है, जो यहां हर छात्र की प्रमुख मांग है।”

Also readNEET Supreme Court Hearing: 1563 छात्रों के ग्रेस मार्क्स रद्द, 23 जून को दोबारा होगी परीक्षा, पढ़ें पूरी खबर

हर्ष दुबे ने कहा, “कोई भी पेपर लीक के बारे में बात नहीं कर रहा है। अगर बिहार में नीट पेपर लीक के बारे में एफआईआर दर्ज की गई है, तो इसकी जांच होनी चाहिए।” दुबे ने पीटीआई वीडियोज से कहा कि, रैंक दो से तीन हजार तक बढ़ सकती है, लेकिन यह 20 से 25 हजार तक नहीं पहुंचनी चाहिए।

वहीं, एक अन्य नीट छात्र अनुज कुमार ने कहा कि, पेपर लीक के कारण पूरे भारत में रैंक और नंबर बढ़े हैं और अब ग्रेस मार्क्स की बात हो रही है। अनुज ने आगे कहा, “हमारा मानना है कि परीक्षा फिर से हो और इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।”

केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में दूसरी बार कार्यभार संभालने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, “नीट-यूजी में पेपर लीक होने का कोई सबूत नहीं है। एनटीए पर भ्रष्टाचार के आरोप निराधार हैं। यह उच्च शिक्षा स्तर के अलावा हर साल 50 लाख से अधिक छात्रों के लिए परीक्षाएं आयोजित करती है।”

बता दें कि, एनटीए ग्रेस मार्क्स का लाभ लेने वाले 1,563 छात्रों के लिए नीट यूजी परीक्षा 2024 दोबारा आयोजित करेगा। एनटीए ने कहा है कि 30 जून तक परिणाम जारी कर दिए जाएंगे। वहीं, जो छात्र दोबारा परीक्षा नहीं देना चाहते हैं, उनके परिणाम 5 मई को आयोजित परीक्षा के आधार पर तैयार किए जाएंगे।

Download Our App

Start you preparation journey for JEE / NEET for free today with our APP

  • Students300M+Students
  • College36,000+Colleges
  • Exams550+Exams
  • Ebooks1500+Ebooks
  • Certification16000+Certifications